बैंकिंग धोखाधड़ी की जांच के लिए आरबीआई धोखाधड़ी रजिस्ट्री स्थापित करने पर विचार कर रहा है

नई दिल्ली: ग्राहक सुरक्षा को मजबूत करने के अपने प्रयासों के तहत, रिजर्व बैंक धोखाधड़ी वाली वेबसाइटों, फोन और डिजिटल धोखाधड़ी के लिए उपयोग किए जाने वाले विभिन्न तरीकों का डेटाबेस बनाने के लिए एक धोखाधड़ी रजिस्ट्री स्थापित करने पर विचार कर रहा है।
आरबीआई के कार्यकारी निदेशक अनिल कुमार शर्मा ने सोमवार को कहा कि इस तरह के डेटाबेस से इन जालसाजों को धोखाधड़ी को दोहराने से रोकने में मदद मिलेगी क्योंकि वेबसाइटों या फोन नंबरों को काली सूची में डाल दिया जाएगा।
उन्होंने कहा, “धोखाधड़ी रजिस्ट्री की स्थापना के लिए कोई निश्चित समय सीमा नहीं है। वर्तमान में, हम भुगतान और निपटान और आरबीआई के पर्यवेक्षण जैसे विभिन्न विभागों सहित विभिन्न हितधारकों से बात कर रहे हैं।”
भुगतान प्रणाली के प्रतिभागियों को वास्तविक समय में धोखाधड़ी की निगरानी के लिए इस रजिस्ट्री तक पहुंच प्रदान की जाएगी। ग्राहकों को उभरते जोखिमों के बारे में शिक्षित करने के लिए समग्र धोखाधड़ी डेटा प्रकाशित किया जाएगा।
शर्मा ने यह भी कहा कि कोर इन्वेस्टमेंट कंपनी (सीआईसी) के ग्राहक रिजर्व बैंक-एकीकृत लोकपाल योजना (आरबी-आईओएस), 2021 के तहत आएंगे।
प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल बैंकिंग, एनबीएफसी और डिजिटल भुगतान प्रणालियों में सेवा की कमियों को दूर करने के लिए एक एकीकृत उपभोक्ता शिकायत निवारण तंत्र शुरू किया था।
वैकल्पिक विवाद निवारण तंत्र को विनियमित संस्थाओं के ग्राहकों के लिए सरल और अधिक उत्तरदायी बनाने के लिए, प्रधान मंत्री ने ‘एक राष्ट्र एक लोकपाल’ लॉन्च किया था।
लोकपाल योजना के तहत दर्ज शिकायतों को साझा करते हुए उन्होंने कहा, 2021-22 के दौरान 4.18 लाख शिकायतें प्राप्त हुईं, जबकि पिछले वर्ष 3.82 लाख शिकायतें प्राप्त हुई थीं। पिछले वित्तीय वर्ष में 97.9 प्रतिशत मामलों का निपटारा किया गया, जबकि पिछले वर्ष में 96.5 प्रतिशत मामलों का निपटारा किया गया था।
इस बात पर जोर देते हुए कि ग्राहकों को कभी भी किसी के साथ खाता विवरण साझा नहीं करना चाहिए, उन्होंने कहा, ग्राहकों को अपने जोखिम को कम करने के लिए तुरंत बैंक को धोखाधड़ी से संबंधित किसी भी घटना की सूचना देनी चाहिए।
उन्होंने कहा कि अपने फोन या डिवाइस पर किसी भी अज्ञात ऐप को डाउनलोड न करें, हमेशा बैंक, एनबीएफसी या ई-वॉलेट प्रदाता की आधिकारिक वेबसाइट तक पहुंचें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.